हैरत में


Wrote the following after seeing the Satyamev Jayate episode on Sunday 8th July!!

कभी मैं हैरान हुआ करता था
इंसानों की खुद परस्ती से!
इस हैरत में था मैं
की गुनेहगार किसे कहूँ…
किसे दिखाऊँ आईना,
किसे बताऊं उसकी ग़लती?
हर मंज़र तलाशा,
हर आईना देखा,
हर दिल में झाँक के देखा!!
अब इस हैरत में हूँ..
जिधर भी देखता हूँ..
गुनेहगार मैं ही हूँ!!
गुनेहगार मैं ही हूँ!!
गुनेहगार मैं ही हूँ!!

– सत्यमेव जयते!!

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s