फिर से!


एक साल निकलने को है, फिर से|
दिन पे दिन गुज़रने को है, फिर से ||
शाम आएगी अंत की यूँ, फिर से |
एक और सफ़र चलने को है दिल, फिर से ||
मेरे यादें बीत गयीं इस तरह,
नई सुबह आने को है फिर से ||

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s